भोपाल

भाजपा उम्मीदवारों की दूसरी सूची के बाद नाराजगी बढ़ गई है। इस दौरान कई नेताओं ने अपनी नाराजगी जताते हुए इस चुनाव में पार्टी से बगावत करने की तैयारी कर ली है। इधर शिवराज सिंह चौहान सरकार में मंत्री गोपाल भार्गव से केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव ने मुलाकात की। इस मुलाकात को भी मान मनौव्वल से जोड़ कर देखा जा रहा है। गौरतलब है कि भाजपा अब उम्मीदवारों की तीन सूची जारी कर चुकी है, जिसमें अब तक 79 सीटों से प्रत्याशी बनाए जा चुके हैं।

भाजपा की दूसरी सूची को लेकर ज्यादा विरोध सामने आता हुआ नजर आ रहा है। उज्जैन और सीधी जिलों से विरोध सामने आया है। नागदा में तो भाजपा नेता लोकेंद्र मेहता ने बगावत कर निर्दलीय लड़ने तक का ऐलान कर दिया है। यहां पर भाजपा ने डॉ. तेजबहादुर सिंह चौहान को टिकट दिया गया है। तेज बहादुर सिंह उज्जैन जिला भाजपा ग्रामीण के दो बार अध्यक्ष रह चुके हैं। नागदा नगर पालिका से पार्षद भी रहे। नरेंद्र सिंह तोमर और सत्यनारायण जटिया के करीबी माने जाते हैं। वर्तमान में कांग्रेस के दिलीप गुर्जर नागदा-खाचरोद से विधायक हैं।

डॉ. तेजबहादुर सिंह चौहान को टिकट दिए जाने से नाराज लोकेंद्र मेहता के साथ खाचरौद के 9 भाजपा पार्षद, नागदा के भी कई भाजपा पार्षदों और जिला पंचायत के दो सदस्य भी नाराज बताए जाते हैं। हालांकि प्रदेश सह मीडिया प्रभारी सचिव सक्सेना ने कहा है कि किसी की भी नाराजगी नहीं हैं, इस्तीफा भी किसी ने नहीं दिया है। एक दो दिन सब सामान्य हो जाएगा। वहीं सीधी जिले के सिहावल में विश्वमित्र पाठक को टिकट मिलने से प्रदेश कार्यसमिति सदस्य डॉ. राजेश मिश्रा के इस्तीफे को लेकर खबरे चल रही हैं। बताया जाता है कि उन्होंने संगठन महामंत्री हितानंद को भेजा। दरअसल पाठक  2018 में टिकट कटने पर निर्दलीय लड़े। यहां से फिलहाल कांग्रेस के कमलेश्वर पटेल विधायक हैं।

Source : Agency