इंसान अपने शरीर पर तब तक ध्‍यान नहीं देता जब तक परिस्थिती हाथ से ना निकलती हुई दिखाई दे। ऐसा ही कुछ शरीर का वजन बढ़ने पर भी महसूस होता है, जब व्‍यक्‍ति के कपड़े फिट आने बंद हो जाते हैं, तब उसे केवल शर्मिंदा होना पड़ता है। यही नहीं, निकली हुई तोंद देखकर खुद का आत्‍मविश्‍वास भी डगमगा जाता है। ऐसा ही कुछ हुआ सुशांत भगत के साथ।

जिन्‍हें मोटा दिखने की मानों आदत सी हो गई थी, लेकिन उनके दिमाग की घंटी तब बजी जब धीरे धीरे उनके कपड़े का साइज XXL तक पहुंच गया और उनके पुराने कपड़े फिट आने बंद हो गए। भगत बताते हैं कि इसके चक्‍कर में मैंने सोशल मीडिया से दूरी बना ली, क्योंकि मुझे विश्वास होने लगा कि मैं बदसूरत और असामान्य दिखता हूं।'

नाम: सुशांत भगत
व्यवसाय: मीडिया एंड टेक्‍नॉलिजी (ब्लॉकचेन) स्‍ट्रेटजिस्‍ट
उम्र: 29
ऊंचाई: 5 फीट 9 इंच
शहर: नई दिल्ली
अधिकतम वजन: 104 किलोग्राम
वेट लॉस: 20 किलोग्राम
वजन कम करने में कितना समय लगा: 6 महीने

आपने जीवनशैली में क्या बदलाव किए हैं?

'मैंने अपनी लाइफस्‍टाइल को पूरी तरह से ट्रांसफॉर्म कर दिया। 1 मार्च, 2023 से मैंने डेली वर्कआउट शुरू किया, जिसमें रविवार को मैं आराम करता था या चीट मील डेज रखता था। दिन की शुरुआत से ही हेल्‍दी खाना बेहद जरूरी बन गया था, क्योंकि ओवरनाइट ओट्स ने मुझे अनुशासित रहने के लिए मजबूर किया था। मैंने शराब पीना छोड़ दिया और अपनी भलाई को प्राथमिकता देना शुरू कर दिया।'

कैसा होता है ब्रेकफास्‍ट, लंच और डिनर

नाश्ता: मैं अपने दिन की शुरुआत ओवरनाइट ओट्स से करता हूं। 60 ग्राम ओट्स को 200 एमएल दूध और 100 एमएल पानी और वे प्रोटीन के साथ मिलाता हूं। इसके स्वाद और पोषण को बढ़ाने के लिए, मैं इसमें चिया सीड्स, कद्दू के बीज और पीनट बटर मिक्‍स करता हूं। इसके ऊपर एक केला, ब्लूबेरी, 7-8 बादाम और 3 अखरोट डालता हूं।

मेरा दोपहर का भोजन: दोपहर के भोजन के लिए, मैं घर का बना भोजन पसंद करता हूं जिसमें भरपूर सलाद शामिल होता है, जिसमें आमतौर पर चुकंदर, प्याज और टमाटर जैसी सामग्री शामिल होती है। मैं हमेशा यह सुनिश्चित करता हूं कि दाल, राजमा, चना, सोयाबीन या चिकन जैसे प्रोटीन स्रोत हों, साथ में एक कटोरी दही और दो रोटियां हों।

मेरा डिनर: डिनर में आम तौर पर चिकन करी या दाल, राजमा, चना, या सोयाबीन जैसे अन्य प्रोटीन सोर्स के साथ 150-200 ग्राम चावल शामिल होता है।

​प्री और पोस्‍ट वर्कआउट मील कैसा होता है

प्री-वर्कआउट मील: अपने वर्कआउट से पहले, मैं एक मीडियम साइज का सेब और एक चम्मच पीनट बटर, साथ में ब्लैक कॉफी या प्री-वर्कआउट सप्लीमेंट लेता हूं। मैं ब्लैक कॉफ़ी और सप्लीमेंट के बीच बदलाव करता हूं।

पोस्‍ट वर्कआउट मी‍ल: वर्कआउट के बाद, मैं रिकवरी में हेल्‍प के लिए वे प्रोटीन का एक स्कूप लेता हूं।

​चीट मील में आप क्‍या खाते हैं?

'मैं पूरे दिन चीट डे पर भरोसा ना कर के सिर्फ एक समय के चीट मील पर भरोसा करता हूं। मैं संडे को चीट मील का आनंद लेता हूं, जिसमें मैं आमतौर पर लच्छे परांठे के साथ चिकन या मटन करी का लुत्फ उठाता हूं। कभी-कभी, मैं रात के खाने के बाद चॉकलेट का छोटा हिस्सा खाता हूं।'

मेरा वर्कआउट:
मैं नियमित वर्कआउट रूटीन बनाए रखता हूं, सप्ताह में छह दिन व्यायाम करता हूं।

सोमवार:
कार्डियो (3-4 km ट्रेडमिल रन, 1 मिनट की स्प्रिंट के बाद एब्स वर्कआउट, 10 सेट) और बैक ट्रेनिंग

मंगलवार:
कार्डियो (ट्रेडमिल/क्रॉस ट्रेनर/साइक्लिंग) के बाद साइड एक्सरसाइज और चेस्‍ट स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग

बुधवार:
कार्डियो और उसके बाद शोल्‍डर ट्रेनिंग

गुरुवार:
कार्डियो और उसके बाद बाइसेप्स ट्रेनिंग

शुक्रवार:
कार्डियो और उसके बाद ट्राइसेप्स ट्रेनिंग

शनिवार:
कार्डियो (गुरुवार के समान) और उसके बाद लेग ट्रेनिंग

रविवार:
रेस्‍ट डे

आप मोटिवेट कैसे रहते हैं?

'मेरे शरीर में ठोस बदलाव देखना, ऐसे कपड़े पहनना जिन्हें मैं कभी असंभव मानता था, और जिम में दोस्ती बनाना मोटिवेटिंग फैक्‍टर रहे हैं। मैंने शुरुआत एक इंस्टाग्राम पेज शुरू किया था, और जब लोग मुझे देखकर प्रेरित होते हैं, तब मुझे उनसे प्रेरणा मिलती है। स्टाइलिश स्पोर्ट्सवियर में इंवेस्‍ट करना भी मुझे प्रेरित रखाता है।

Source : Agency