सीहोर
 सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान नसरुल्लागंज के ग्राम छीपानेर पहुंचे, जहां उन्होंने लिफ्ट सिंचाई योजना व राशन दुकान का औचक निरीक्षण किया। इस मौके पर कमिश्नर व कलेक्टर सहित संबंधित अधिकारी से खाद्यान्न का मिलान कराया।

सीएम ने 5 जनवरी से छीपानेर से देवास के 69 गांव की सिंचाई के लिए पानी देने व सीहोर व हरदा जिले को व छोटी छीपानेर व बड़ी छीपानेर को जोड़ने वाले पुल का निरीक्षण कर 30 दिसंबर तक कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए। इससे पूर्व वे जिले के ग्राम ससली पहुंचे। यहां उन्होंने भाजपा नेता रघुनाथ सिंह भाटी के पिता स्वर्गीय जीवन सिंह भाटी को श्रद्धांजलि अर्पित की। जीवन सिंह भाटी का 24 नवंबर को निधन हो गया था।

छीपानेर से लिफ्ट सिंचाई योजना का औचक निरीक्षण करने पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि छीपानेर में एक लिफ्ट इरीगेशन की योजना है, ज‍िससे छीपानेर से देवास के 69 गांव की सिंचाई होगी। उन्‍होंने उसके काम व गुणवत्ता को देखकर उसे ठीक बताया।

सीएम ने कहा कि अंतिम समय सीमा मैंने तय की है। 31 दिसंबर तक काम पूरा होगा और 5 जनवरी से टेस्टिंग में लगेंगे। इसके बाद हम लिफ्ट इरीगेशन से सिंचाई के लिए पानी देंगे। यह पुल मेरा महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट था। सीहोर व हरदा जिले को व छोटी छीपानेर व बड़ी छीपानेर जिसे मैं देखने आया था। काम में देरी हुई है। पुल तैयार है, लेकिन एप्रोच रोड तीन किमी बची है, जो 30 दिसंबर तक पूरी हो जाएगी। वहीं मीडिया के एक्शन मोड के सवाल पर उन्होंने कहा काम के लिए एक्शन में आना पड़ता है। जो ईमानदारी से काम करेंगे, उनको कंधे पर बैठाऊंगा। यदि किसी ने गड़बड़ की तो वह काहे के लिए नौकरी करेगा, बहुत से बेरोजगार हैं, उन्हें नौकरी कराऊंगा।

Source : Agency