कतर
कतर में इस साल फुटबॉल वर्ल्ड कप की शुरुआत 20 नवंबर से होगी। पहले यह टूर्नामेंट 21 नवंबर से खेला जाना था, लेकिन फीफा ने एक दिन पहले से इसे शुरू करने का फैसला लिया है। पुराने शेड्यूल के मुताबिक पहला मुकाबला नीदरलैंड और सेनेगल के बीच खेला जाना था। अब पहले मैच के शेड्यूल में बदलाव किया गया है। अब पहला मुकाबला मेजबान कतर और इक्वाडोर के बीच खेला जाएगा।

कतर और इक्वाडोर के बीच ग्रुप-ए का यह मुकाबला पहले के शेड्यूल के मुताबिक टूर्नामेंट का तीसरा मैच था। परंपरा के मुताबिक, फीफा वर्ल्ड कप के पहले मैच में मेजबान टीम या पिछली बार की चैंपियन टीम खेलती है। ऐसे में अब शेड्यूल में बदलाव कर इस परंपरा को बनाए रखा गया है। इसे लकर अंतिम निर्णय फीफा परिषद के ब्यूरो ने दे दिया। इसमें छह परिसंघ अध्यक्ष और फीफा अध्यक्ष गियानी इन्फेंटिनो शामिल हैं।

फीफा ने क्या कहा?
फीफा ने कहा- शेड्यूल में यह बदलाव पुरानी परंपरा को बनाए रखने के लिए है। नए शेड्यूल के तहत, सेनेगल और नीदरलैंड के बीच ग्रुप ए मैच को 21 नवंबर को दोपहर एक बजे (1000 GMT) से शाम सात बजे शिफ्ट कर दिया गया है। ईरान के खिलाफ इंग्लैंड के ग्रुप बी के शुरुआती मुकाबले में कोई बदलाव नहीं हुआ है। आयोजन की तैयारी में अरबों डॉलर खर्च करने वाले कतर के आयोजकों ने तुरंत फीफा के फैसले का स्वागत किया।

आयोजन समिति ने एक बयान में कहा- मध्य पूर्व और अरब दुनिया में होने वाले पहले फीफा विश्व कप का उद्घाटन कतर के लिए जीवन भर का अवसर है। प्रशंसकों पर इस फैसले के प्रभाव का फीफा द्वारा आकलन किया गया था। हम बदलाव से प्रभावित समर्थकों के लिए एक सुचारू टूर्नामेंट सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करेंगे।

इक्वाडोर के फैंस को शेड्यूल में बदलाव से हो सकती है दिक्कत
इक्वाडोर के कुछ प्रशंसकों को पहले कतर पहुंचने के लिए उड़ानें बदलनी पड़ सकती हैं और फुटबॉल सूत्रों ने कहा कि तारीख बदलने से कुछ विश्व कप अनुबंधों में बदलाव हो सकता है। हालांकि, विश्व कप से जुड़ी कई कंपनियों ने भरोसा जताया कि व्यवधान दूर हो जाएगा। मैच हॉस्पिटैलिटी के चेयरमैन जैम बायरोम ने कहा- यह कुछ ऐसा है जिससे हम निपट लेंगे।

बायरोम ने कहा- हमें उन ग्राहकों पर ध्यान केंद्रित करना होगा जो सबसे अधिक प्रभावित होते हैं और मुझे लगता है कि इस मामले में हम अपने इक्वाडोर के ग्राहकों को देख रहे हैं जो विदेशों से यात्रा कर रहे हैं और यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि वे मैच के लिए समय पर पहुंच सकें। 18 दिसंबर को फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। कतर की भीषण गर्मी ने निपटने के लिए आयोजकों ने स्टेडियम में एयर कंडीशनिंग की व्यवस्था भी की है।

इस साल नवंबर-दिसंबर में कतर में होने वाले विश्व कप में 32 टीमें हिस्सा ले रही है, जिन्हें चार-चार कर आठ ग्रुप में बांटा गया है। लियोनल मेसी की अर्जेंटीन को ग्रुप-सी में और क्रिस्टियानो रोनाल्डो की पुर्तगाल टीम को सबसे आखिरी ग्रुप-एच में रखा गया है।

मेजबान कतर ग्रुप-ए में है। सबसे ज्यादा पांच बार विश्व कप जीतने वाली टीम ब्राजील को ग्रुप-जी में क्रोएशिया, मोरक्को और कनाडा के साथ रखा गया है। ग्रुप-बी में मौजूद इंग्लैंड की टीम अपने पहले मैच में ईरान से भिड़ेगी। 1982 के बाद पहली बार ऐसा होगा कि इंग्लैंड की टीम फीफा वर्ल्ड कप में किसी एशियन टीम से भिड़ेगी।
इससे पहले 1982 में इंग्लिश टीम का सामना कुवैत से हुआ था। तब कुवैत ने उन्हें हरा दिया था। इंग्लैंड की टीम उस पुरानी याद को भुलाकर नए सिरे से शुरुआत करना चाहेगी। इंग्लैंड की टीम फीफा विश्व कप में ईरान से पहली बार भिड़ेगी। 2010 की विश्व कप चैंपियन स्पेन और चार बार की विश्व चैंपियन जर्मनी को एक ही ग्रुप (ग्रुप-ई) में रखा गया है।

 

फीफा वर्ल्ड कप ग्रुप

ग्रुप टीमें
ग्रुप ए कतर , इक्वाडोर, सेनेगल, नीदरलैंड्स
ग्रुप बी इंग्लैंड, ईरान, यूएसए, यूरोपियन प्ले-ऑफ (वेल्स/स्कॉटलैंड/यूक्रेन)
ग्रुप सी अर्जेंटीना, साउदी अरब, मैक्सिको, पोलैंड
ग्रुप डी फ्रांस, इंटर कॉन्टिनेंटल प्लेऑफ 1 (पेरू/यूएई/ऑस्ट्रेलिया), डेनमार्क, ट्यूनीशिया
ग्रुप ई स्पेन, इंटर कॉन्टिनेंटल प्लेऑफ 2 (कोस्टा रिका/न्यूजीलैंड), जर्मनी, जापान
ग्रुप एफ बेल्जियम, कनाडा, मोरक्को, क्रोएशिया
ग्रुप जी ब्राजील, सर्बिया, स्विटजरलैंड, कैमरून
ग्रुप एच पुर्तगाल, घाना, उरुग्वे, कोरिया
Source : Agency