भोपाल
महंगाई और नई शिक्षा नीति के खिलाफ एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने भोपाल में प्रदर्शन किया. कार्यकर्ता एकजुट होकर सीएम हाऊस का घेराव करने निकले थे. जिन्हें रोकने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया. करीब 200 प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है. इस दौरान पीसीसी चीफ कमलनाथ को कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भी देखा गया. जहां उन्होंने बीजेपी सरकार पर आरोपों की झड़ी लगा दी.

पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ कमलनाथ ने एनएसयूआई के घेराव को लेकर आयोजित प्रदर्शन में कहा कि झंडे बैनर और पोस्टर से चुनाव जीतना संभव नहीं है, एनएसयूआई कार्यकर्ताओं को कॉलेज में सदस्य बनाना है. यह आपकी जिम्मेदारी है जिससे अगले 2 साल में एक बार फिर कांग्रेस का झंडा विधानसभा में लहराए. कमलनाथ ने कहा कि युवा मध्यप्रदेश के भविष्य हैं और यदि यह भविष्य सुरक्षित रहेगा तो हमारा देश और प्रदेश सुरक्षित रहेगा. कांग्रेस की जोड़ने की संस्कृति है, अनेकता में एकता की संस्कृति का पालन कांग्रेस करती है.

अपने संबोधन के दौरान पीसीसी चीफ कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा, 'कांग्रेस की सरकार ने नीति और नियत का परिचय दिया था. शिवराज ने हमें ऐसा प्रदेश सौंपा था, जो बेरोजगारी और अपराध में नंबर वन था. शिवराज जी ने 22000 घोषणाएं की हैं. आपका मुंह बहुत चलता है'. एनएसयूआई कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कमलनाथ ने कहा कि आपको संगठन की तरफ देखना है, क्योंकि हमारा मुकाबला भारतीय जनता पार्टी संगठन से है. झंडे बैनर पोस्टर से चुनाव जीतना संभव नहीं है.

एनएसयूआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन ने कहा कि केंद्र सरकार ने शिक्षा का निजीकरण करना शुरू कर दिया है, जो कि बहुत ही घातक है. नई शिक्षा नीति से युवा छात्र-छात्राएं परेशान हैं. NSUI मुख्यमंत्री निवास का घेराव करने जा रहे थे, लेकिन उससे पहले ही न्यू मार्केट के पास कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज कर दिया गया. जिससे भगदड़ मच गई और कार्यकर्ता इधर-उधर भागने लगे. पुलिस ने तीन बसों में भरकर करीब 200 NSUI कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया है.

Source : Agency