नई दिल्ली

हिंदू धर्म में बैकुंठ चतुर्दशी का विशेष महत्व है। कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को यह तिथि आती है। इस साल बैकुंठ चतुर्दशी 17 नवंबर, बुधवार को है। यह तिथि भगवान विष्णु को समर्पित होती है। ऐसे में इस दिन प्रभु श्रीहरि की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन व्रत रखने व भगवान विष्णु की पूजा करने वाले भक्तों को बैकुंठ धाम की प्राप्ति होती है।

बैकुंठ चतुर्दशी शुभ मुहूर्त-

इस साल बैकुंठ चतुर्दशी 17 नवंबर बुधवार को सुबह 09 बजकर 50 मिनट पर शुरू होगी, जो कि 18 नवंबर, गुरुवार को समाप्त होगी। बैकुंठ चतुर्दशी की महत्ता शास्त्रों में भी वर्णित है। मान्यता है कि इस दिन मृत्यु को प्राप्त करने वाले व्यक्ति को सीधे स्वर्गलोक में स्थान प्राप्त होता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से सभी तरह के कष्टों से मु्क्ति मिलती है। पुराणों के अनुसार, इसी दिन भगवान शिव ने भगवान श्रीहरि को सुदर्शन चक्र दिया था। बैकुंठ चतुर्दशी के दिन भगवान शिव और प्रभु विष्णु एकाएक रूप में रहते हैं।

Source : Agency