चंद्र ग्रहण वैज्ञानिक रूप से तो महत्वपूर्ण होता ही है साथ ही इसका धार्मिक और ज्योतिषीय महत्व भी है। धार्मिक दृष्टि से देखा जाए तो चंद्र को ग्रहण लगना अशुभ माना जाता है। इस दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्य नहीं किये जाते और कई कार्यों को करना वर्जित होता है। 19 नवंबर को साल का आखिरी चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। जो वृषभ राशि और कृतिका नक्षत्र में लगेगा। जानिए इस ग्रहण का किन राशि वालों पर शुभ प्रभाव पड़ेगा।

चंद्र ग्रहण कब और कहां देगा दिखाई? ये खंडग्रास चंद्रग्रहण होगा। जो कार्तिक शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा के दिन लगने जा रहा है। ग्रहण की शुरुआत सुबह 11:34 बजे से होगी और इसकी समाप्ति शाम 05:33 पर होगी। ग्रहण काल की कुल अवधि 05 घण्टे 59 मिनट की होगी। ग्रहण भारत में अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी सीमांत क्षेत्रों में, पश्चिमी यूरोप, पश्चिम अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका, इंडोनेशिया, थाईलैंड, दक्षिण अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, रूस, चीन और अटलांटिक महासागर में दिखाई देगा।

किन राशियों के लिए शुभ: ग्रहण तुला, कुंभ और मीन राशि वालों के लिए शुभ रहेगा। इस दौरान आपको अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे। करियर में अच्छी सफलता मिलने के आसार रहेंगे। आगे बढ़ने के नए अवसर प्राप्त होने की संभावना है। यदि कहीं नौकरी का आवेदन किया है तो वहां सफलता मिल सकती है। व्यापारी लोगों को भी इस दौरान विशेष लाभ प्राप्त होने के आसार रहेंगे। करियर में आ रही बाधाएं दूर होंगी। निवेश करने के लिए भी अच्छा समय है। ग्रहण के दौरान मेष, वृषभ, सिंह और वृश्चिक वालों को सावधान रहना होगा। क्योंकि इन राशि वालों के लिए ग्रहण अच्छा नहीं है।

क्या सूतक काल लगेगा? भारत में उपच्छाया चंद्र ग्रहण लग रहा है। इस ग्रहण को नग्न आंखों से नहीं देखा जा सकता। इसे देखने के लिए विशेष तरह के उपकरणों की जरूरत पड़ती है। धार्मिक दृष्टि से उसी ग्रहण का महत्व माना जाता है जिसे खुली आंखों से देखा जा सके। क्योंकि इस ग्रहण को सामान्य तौर पर नहीं देखा जाएगा इसलिए इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा।

 

Source : Agency